www.poetrytadka.com

Love Poetry in Hindi

Are you looking Love Poems or Love Poetry in Hindi, love poetry in hindi for girlfriend, love poetry in hindi for boyfriend, love poetry in hindi lyrics, hindi love poems in english, romantic love poems for her in hindi, hindi love poems by famous poets, sad hindi love poems, heart touching love poems in hindi if yes then your are right place in here you can read a huge collection of Love Poems or Love Poetry in Hindi.

mere dil ki ummido ka

प्यार करके कोई जताए ये जरूरी तो नही
याद करके कोई बताये ये जरूरी तो नही
रोने वाला तो दिल में ही रो लेता है
आँख में आंसू आये ये जरूरी तो नही
mere dil ki ummido ka

jab tak zinda hoon

दुनिया में किसी से कभी प्यार मत करना
अपने अनमोल आँसू इस तरह बेकार मत करना
कांटे तो फिर भी दामन थाम लेते हैं
फूलों पर कभी इस तरह तुम ऐतबार मत करना
jab tak zinda hoon

kal tak

वो मिसाल हम इश्क़ मे बनाएँगें
की आँखे जब तुम बंद करोगें तो बस हम आएँगें
इतना प्यार हम भर देंगे आपके दिल मे की
बस सब से पहले हम ही याद आएँगें
kal tak

tumhe kya pta

भूलना चाहो तो भी याद हमारी आएगी
दिल की गहराई मे हमारी तस्वीर बस जाएगी
ढूढ़ने चले हो हमसे बेहतर दोस्त
तलाश हमसे शुरू होकर हम पे ही ख़त्म हो जाएगी.
tumhe kya pta

sapno ki manzil

सपनों की मंज़िल पास नहीं होती
ज़िंदगी हर पल उदास नहीं होती
ख़ुदा पे यकीन रखना मेरे दोस्त
कभी-कभी वो भी मिल जाता है जिसकी आस नहीं होती
sapno ki manzil

tune hi lga diya

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है
दिल न चाह कर भी, खामोश रह जाता है
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है
कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है
tune hi lga diya

hum to sochte the

हर शाम किसी के लिए सुहानी नही होती
हर प्यार के पीछे कोई कहानी नही होती
कुछ तो असर होता है दो आत्मा के मेल का
वरना गोरी राधा, सावले कान्हा की दीवानी न होती
hum to sochte the

tumhe apna kahne ki

सियासी आदमी की शक्ल तो प्यारी निकलती है
मगर जब गुफ़्तगू करता है चिंगारी निकलती है
लबों पर मुस्कुराहट दिल में बेज़ारी निकलती है
बड़े लोगों में ही अक्सर ये बीमारी निकलती है
tumhe apna kahne ki

intzaar kahte hai

इंकार को इकरार कहते हे
खामोशी को इज़हार कहते हे
क्या दस्तूर है इस दुनिया का
एक खूबसूरत सा धोखा हे
जिसे लोग ‘प्यार’ कहते हे.
intzaar kahte hai

na jaane kya baat hai

सारी उम्र आंखो मे एक सपना याद रहा
सदियाँ बीत गयी पर वो लम्हा याद रहा
ना जाने क्या बात थी उस शख्स में
na jaane kya baat hai