www.poetrytadka.com



Suprabhat Shayari

Read latest collection सुप्रभात शायरी, Suprabhat shayari, Subah ki shayari or सुबह की शायरी in Hindi and English fonts.

Samajhdari Suprabhat shayari

Samajhdari Suprabhat shayari

समझदारी की बातें सिर्फ दो ही लोग करते हैं,
एक वो जिसकी उम्र अधिक हो और एक वो,
जिसने बहुत काम उम्र में बुरा वक़्त देखा हो।

Samajhdari Suprabhat shayari in Hindi.

Subah ki Shayari

Subah ki Shayari

उन्होनें भी हमें बस एक दिए की तरह समझा,
रात गहरी हुयी तो जला दिया सुबह हुयी तो बुझा दिया.
Subah ki shayari.

सुप्रभात शायरी

सुप्रभात शायरी

ये मत सोचना की तुमने छोड़  दिया तो टूट  गए हम

वो भी जी रहे हैं जिनको तेरी खातिर  छोड़ा था हमने

सुप्रभात शायरी

kaise hifazat karta

kaise hifazat karta

मैं चिरागों की भला कैसे हिफाज़त करता

वक़्त सूरज को भी, हर रोज़ बुझा देता है

kehne ko zindagi

kehne ko zindagi

कहने को ज़िन्दगी है मगर इसमें ज़िन्दगी वाली बात नही

भीड़ में शामिल हर कोई है, पर कोई किसी के साथ नही