www.poetrytadka.com

Hindi Poems

Now at poetry tadka we are publishing new Hindi poems like motivational poems in Hindi, patriotic poem, teachers day shorts poems, desh bhakti poem in Hindi and many more Hindi poems at your loving website.

गरम गरम लडू सा सूरज
लिपटा बैठा लाली मे
सुबह सुबह रख आया कौन
इसे आसमान की थाली में

मूंदी आँख खोली कलियों ने
चिड़ियों ने गाया गाना
गुन गुन करते भवरों ने
खिलते फूलों को पहचाना

तभी आ गई फुदक फुदक कर
एक तितलियों की टोली
मधुमखियों ने मधू रस लेकर
भर डाली अपनी झोली

उठो उठो हम लगे काम पर
तब आगे बढ़ पाएँगे
वे क्या पाएंगे जीवन मे
जो सोते रह जाएंगे

by : अर्पित खन्ना

New Hindi Poem

New Hindi Poem

आखिर एक ही तो जिंदगी थी
वफाएं किस किस से करते

अपने आप से, अपने सपनों से
अपनी काबिलियत से
अपनी सच्चाई से!

या  दूसरों की सोच से या फिर  
रास्तो पे आने वाली रुकावटो से

Short poem in Hindi

Short poem in Hindi

मैं यादों का पिटारा खोलू तो, 
कुछ दोस्त बहुत याद आते है।

मैं गांव की गलियों से गुजरू 
पेड़ की छांव में बैठू तो, 
कुछ दोस्त बहुत याद आते है।

वो हंसते मुस्कुराते दोस्त ना जाने 
किस शहर में गुम हो गए, 
कुछ दोस्त बहुत याद आते है।

Famous Hindi Poem

Famous Hindi Poem

पापा मै आप से कुछ कहना चाहती हूँ
पापा मैं आपके साथ बैठना चाहती हूँ। 

आपसे बहुत कुछ कहना चाहती हूँ
अपने दर्द बयाँ कर रोना चाहती हूँ। 

पापा मै आप से एक बात कहना चाहती हूँ
मैं कई बार अकेली सी पड़ जाती हूँ। 

मैं आप को आवाज लगाना चाहती हूँ
पापा मै आप को बहुत चाहती हूँ। 

हाँ, मैं कभी नही बताती
मगर मै आप के जैसा बनना चाहती हूँ। 

- Anushthi Singh

Motivational Poem in Hindi

Motivational Poem in Hindi

एक सवाल
आओ, पूछें एक सवाल! 
मेरे सिर में कितने बाल? 
कितने आसमान में तारे? 
बतलाओ या कह दो हारे! 
नदियाँ क्यों बहती दिन-रात? 
चिड़ियाँ क्या करती हैं बात? 
क्यों कुत्ता बिल्ली पर थाए? 
बिल्ली क्यों चूहे को खाए? 
फूल कहाँ से पाते रंग? 
रहते क्यों न जीव सब संग? 
बादल क्यों बरसाते पानी? 
लड़के क्यों करते शैतानी? 
नानी की क्यों सिकुड़ी खाल? 
अजी, न ऐसा करो सवाल! 
यह सब ईश्वर की माया है, 
इसको कौन जान पाया है?
- श्रीनाथ सिंह

Best poem in Hindi

Best poem in Hindi

तुम और मैं
दो ओस की बूंद जैसे 
जिंदगी के सफर में मिले
जिस राह जिंदगी ले गई
चल दिए... 
और फिर
न जाने कब
एक दूजे में मिल कर
पानी बन गए
सागर में समा गए.. 
हाँ तुम और मै
एक हो गए.