Poetry Tadka

Mast Shayari

Welcome to Mast Shayari in Hindi ! Mast Status ! मस्त शायरी page. This is Mast Shayari in Hindi of poetry tadka. And read here मस्त शायरी, Mast Status, बढ़िया शायरी, Badiya Shayari and many more.

Mast Shayari in Hindi ! Mast Status ! मस्त शायरी

Mast Status In Hindi

मस्त नजरों से देख लेना था, 
अगर तमन्ना थी आजमाने की, 
हम तो बेहोश यूं ही हो जाते, 
क्या जरूरत थी मुस्कुराने की।
Mast Nazron Se Dekh Lena Tha
Agar Tamanna Thi Aazmane Ki
Ham To Behosh Ho Youn He Ho Jate
Kia Zaroorat Thi Muskurane Ki.

मस्त रहता हूं अपनी मस्ती मैं,
जाता नहीं मतलबी लोगों की बस्ती में
Mast Rahta Hun Apni Masti Me
Jata Nahin Matlabi Logon Ki Basti Me.

Mujhko Aisa Dard Mila Jiski Dava Nahin

मुझको ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं 
फिर भी खुश हूँ मुझको उससे कोई गिला नहीं 
और कितने आसू बहाऊ उसके लिए 
जिसको खुदा ने मेरे नशीब में लिखा नहीं 

Mujhako Aisa Dard Mila Jiski Dava Nahin. 
Fir Bhi Khush Hoon Mujhko Usse Koi Gila Nahin.
Aur Kitne Aansoo Bahaoo Usake Lie 
Jisako Khuda Ne Mere Nasheeb Mein Likha Nahin.
 

Mast Shayari Facebook

अच्छे लोगो की भगवान परीक्षा बहुत लेता है 
लेकिन साथ नहीं छोड़ता 
बुरे लोगो को भगवान बहुत कुछ देता है 
पर साथ नहीं देता 

Mast Shayari On Dosti

उसकी हसरत को मेरे दिल लिखने वाले 
काश उसको भी मेरी किश्मत में लिखा होता 

Uski Wafa Mein Kuchh Aur Baat Thi

मेरे बाद किसी और को  हमसफर बना कर देख लेना 
तेरी हर धड़कन कहेगी उसकी वफा में कुछ और बात थी 
Mere Baad Kisi Aur Ko  hamsafar Bana Kar Dekh Lena  
Teri Har Dhadkan Kahegi Uski Wafa Mein Kuchh Aur Baat Thi.

Mohabbat To Dil Se Hoti Hai

होता नहीं मोहब्बत सूरत से मोहब्बत तो दिल से होती है 
सूरत उसकी प्यारी लगती है कद्र जिसकी दिलसे होती है 

Mast Shayari On Life In Hindi

इन्सान सिर्फ एक ही बात से अकेला पड़ जाता है 

जब उसके अपने ही उसे गलत समझने लगे 

Ast Hindi Romantic Shayari

मैंने तो सिर्फ मोहब्बत की थी 

वो भी करलेते तो शायद इश्क कहलाता 

Tum Meri Pehli Mohabbat Ho

तुम मेरी पहली मोहब्बत हो 
मगर मैंने तुम्हे चाहा है 
आखरी मोहब्बत की तरह 

Use Paane Ke Liye Kis Had Tak Ja Sakta Hai

किसी ने मुझसे पूछा की तुम 
उसे पाने के लिए किस हद तक जा सकते हो 
मैंने मुश्कुरा कर कह दिया 
हद पार करनी होती तो उसे कबका पा लिया होता