www.poetrytadka.com

kho to phool ban jaae

कहो तोह ___फूल ___बन जाऊं !
तुम्हारी ज़िन्दगी का असूल बन जाऊ !
सुना है रेत पे चल के तुम महक जाते हो !
कहो तो अबकी बार ज़मीन की धुल बन जाऊ !!