Poetry Tadka

Khwahish Shayari

Welcome to Khwahish Shayari in Hindi ! ख्वाहिश शायरी page. Khwahish shayari, ख्वाहिश शायरी, and many more latest khwahish shayari in Hindi fonts with picture at poetry tadka.

Khwahish Shayari in Hindi ! ख्वाहिश शायरी

Hazaron Khwahishen Aisi Shayari

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि 
हर ख्वाहिश पे दम निकले 
बहुत निकले मेरे अरमान 
लेकिन फिर भी कम निकले
Hazaron Khwahishen Aisi Ki
Har Khwahish Pe Dam Nikle.
Bahot Nikle Mere Armaan
Lekin Fir Bhi Kam Nikle.

Adhuri Khwahish Shayari

ज़िन्दगी तो पूरी कट जाती है पर
कुछ खव्हिशें अधूरी ही दम तोड़ देती है
Zindagi To Poori Kat Jati Hai Par
Kuchh Khwahishen Adhuri He Dam Tod Deti Hai.

कुछ खास फर्क नहीं पड़ता ख्वाहिशें अधूरी रहने पर. 
बहुत करीब से सपनों को टूटते हुए देखा है..
Kuch Khas Fark Nahin Padta Khwahishen Adhori Rahne Par.
Bahot Kareeb Se Sapnon Ko Tootte Huye Dekha Hai.
 

Khwahish Quotes In Hindi

वही पुरानी ख्वाहिश 
फिर वही पुरानी जिद
चाहिए इक छोटा सा पल 
और साथ तुम सिर्फ तुम
Wahi Purani Khwahish 
Fir Wahi Purani Zid.
Chahiye Ik Chhota Sa Pal 
Aur Saath Tum Sirf Tum.

एक ख्वाहिश है मेरी,
लम्बी सड़क, हल्की बारिश, 
बहुत सारी बातें, 
और बस हम और तुम.
Aik Khwahish Hai Meri
Lambi Sadka, Halki Barish
Bahot Sari Baten
Aur Bas Hum Aur Tum.

Khwahish Status In Hindi

चाहे दुनिया कितनी भी खिलाफ हो 
ख्वाहिश है मेरी हमेशा तुम मेरे साथ हो..
Chaahe Duniya Kitani Bhi Khilaf Ho.
Khwahish Hai Meri Hamesha Tum Mere Saath Ho.

ख़्वाब, ख्वाहिश और लोग 
जितने कम हो उतना अच्छा है.
Khwab, Khwahish Aur Log
Jitne Kam Ho Utna Achcha Hai.

Khwahishon Ko Jata Nahin Paya

मैं खुद की ख्वाहिशों को जता नहीं पाया 
मसला कुछ ऐसा था की मै  खामोश बहुत था 
Mai Khud Khwahishon Ko Jata Nahin Paya
Masla Kuch Aisa Tha Ki Mai Khamoosh Bahot Tha.

खैरात की ख्वाहिश कभी ना थी हमे...
मोहब्बत की आरजू थी मोहब्बत के बदले...
Khairat Ki Khwahish Kabhi Na Thi Hame
Mohabbat Ki Aarzoo Thi Mohabbat Ke Badle.

Use Kishmat Smjh Kar

उसे किस्मत समझ कर सीने से लगाया
था, भूल गए थे के किस्मत बदलते देर नहीं लगती

Uski Khwahish

मेरे टूटने की वजह मेरे जोहरी से पूछो....

उस की ख्वाहिश थी कि मुझे थोडा और

तराशा जाये.!!

Hum Itne Gareeb Nahi

तुम आरजू तो करो मोहब्बत करने की 

हम इतने भी गरीब नहीं की मोहब्बत ना दे सके

Khwahish Ye Nahin

ख़्वाहिश ये नहीं की तारीफ़ हर कोई करे......

कोशिश ये ज़रूर है की कोई बुरा ना कहे.....

Ye Kaisi Khwahish Hai

ये कैसी ख्वाहिश है कि मिटती ही नहीं..

जी भर के तुझे देख लिया फिर भी नजर हटती नहीं..