www.poetrytadka.com

uski zarurat bhi bhut hai

शिकवे भी हजारों हैं , शिकायतें भी बहुत है !
इस दिल को मगर उनसे मुहाब्बत भी बहुत है !
ये भी है तम्मना की उनको दिल से भुला दें !
इस दिल को मगर उनकी जरुरत भी बहुत है !!