Poetry Tadka

Soch Shayari

Looking latest Achi Soch Shayari be with us and read अच्छी सोच शायरी in Hindi only on poetry tadka.

Soch Shayari ! अच्छी सोच शायरी

Gandi Soch Shayari - गन्दी सोच शायरी

सब कुछ उठाया जा सकता है
सिवा किसी इंसान की गिरी हुई गंदी सोच के.
Sab Kuch Uthaya Ja Sakta Hai
Siwa Kisi Insaan Ki Giri Hui Gandi Soch Ke.

मुस्कुराते चेहरे के पीछे गंदी सोच छिपाते हैं 
दिल भले ही काला हो पर सफेद कोट चढ़ाते हैं.
Muskurate Chehre Ke Peeche Gandi Soch Chhipate Hain.
Dil Bhale He Kala Ho Par Safed Kot Chadhate Hain.

Achi Soch Shayari

जब सोच में मोच आती है 
तब हर रिश्ते में खरोंच आती है.
Jab Soch Me Moch Aati Hai
Tab Har Rishte Me Kharoch Aati Hai.

वो सोचते हैं कितना अलग सोचता हूँ मैं
मैं सोचता हूँ क्यों अलग सोचता हूँ मैं।
Wo Sochte Hain Kitna Alag Sochta Hun Mai
Mai Sochta Hun Kyon Alag Sochta Hun Mai.

Achi Soch Shayari

कुछ इस तरह खूबसूरत रिश्ते टूट जाया करते हैं
जब दिल भर जाता है तो लोग अक्सर रूठ जाया करते हैं
Kuchh Is Tarah Kuubsurat Rishtey Toot Jaya Karte Hain.
Jab Dil Bhar Jaata Hai To Log Aksar Rooth Jaaya Karte Hain.

अच्छी सोच ही तुम्हे बड़ा बनाती है 
खड़ा कर तुम्हे अपने पैरों पर
अपने सपनो के मुक़ाम तक पहुंचती है।
Achchi Soch He Tumhe Bada Banati Hai.
Khada Kar Tumhe Apne Pairo Par,
Apne Sapnon Ko Mukam Tak Pahuchati Hai.
 

Achi Soch Quotes Hindi

हैवान बनकर बुरा सोचने की बजाय 
इंसान बनकर अच्छा सोचना ही जीवन 
जीने का प्रथम और आखिरी उदेश्य है ।
Haiwan Bankar Bura Sochne Ki Bajay
Insan Bankar Achcha Sochna He Jeewan
Jeene Ka Prtham Aur Aakhiri Uddeshya Hai.

इंसान सफल तब होता है,
जब वो दुनियां को नहीं बल्कि 
खुद को बदलना शुरू कर देता है।
Insan Safal Tab Hota Hai
Jab Wo Duniya Ko Nahin Balki
Khud Ko Badalna Shuru Kar Deta Hai.

Achi Soch Status In Hindi

अगर चाहते हो कुछ बड़ा करना, 
तो अपने फैसले पे भरोसा करना. 
एक बार किये हुए फैसले पर, 
बेवजह बार- बार मत सोचा करना.
Agar Chahte Ho Kuch Bada Karna
To Apne Faisale Pe Bharosa Karna.
Aik Baar Kiye Huye Faisale Par
Bewajah Baar-baar Mat Socha Karna.

Sakaratmak Soch In Hindi

कुछ सीखने के लिये पीछे मुड कर देखो
जिन्दगी जीने के लिये सामने देखो
आगे बढ जाओ ठहरा हुआ पानी बदबू फैलाता है
रूका हुआ इंसान खत्म हो जाता है

Kuchh Seekhane Ke Liye Peechhe Mud Kar Dekho
Zindagi Jeene Ke Liye Saamane Dekho
Aage Badh Jao Thahara Hua Paanee Badaboo Phailaata Hai
Rooka Hua Insaan Khatm Ho Jaata Hai

Ek Achi Soch

बुलंदी की उडान पर हो तो जरा सब्र रखो
परिंदे बताते हैं कि आसमान में ठिकाने नही होते

Bulandee Ki Udaan Par Ho To Jara Sabr Rakho
Parinde Bataate Hain Ki Aasamaan Mein Thikaane Nahi Hote

Thak Gaya Hoon Main

कैसे कह दूँ कि थक गया हूँ मैं
न जाने किस किस का हौसला हूं मैं
Kaise Kah Doon Ki Thak Gaya Hoon Main
Na Jaane Kis Kis Ka Hausala Hoon Main

Achi Soch Shayri

तू मत देख कोई शख्स गुनाहगार है कितना
बस यह देख, तेरे साथ वफादार है कितना

Ek Muskan De

बुराई करने वाले को सम्मान दें,

लाचार को ही दान दें,

बहुत सुकून मिलेगा, 

चल किसी रोते को इक मुस्कान दें