www.poetrytadka.com

jis din tumhara didar na ho

जिन ख्याबों में तुम नही आती हो वो ख्याब अधूरे लगते हैं !
जिस दिन तुम्हारा दीदार न हो तो वो दिन अधूरा लगता है !!