Poetry Tadka

Four Line Shayari

Zindagi Ki Trah

तू थमी है इन आँखों में यूँ नमी कि तरह !
कि चमक उठे हैं अँधेरे भी रोशनी कि तरह !
तुम्हारा ख़याल है या आसमान नज़रों में !
सिमट गया यूँ जिस्म में ज़िन्दगी की तरह !!

Ek Pal Me Zindagi Bhar Ki Udasi

एक पल में ज़िन्दगी भर की उदासी दे गया !
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !
नोच कर शाखों के तन से खुश्क पत्तों का लिबास !
ज़र्द मौसम बाँझ रुत को बे-लिबासी दे गया !!

Badal Gya Hoon Mai

कुछ लोग कहते है की बदल गया हूँ मैं !
उनको ये नहीं पता की संभल गया हूँ म !
उदासी आज भी मेरे चेहरे से झलकती है !
परअब दर्द में भी मुस्कुराना सीख गया हूँ मे !!

Dil Ke Sare Arman

मैंने दिलो जान दील के सारे अरमान !
सिर्फ उसीके नाम और उसी "वक़्त"कर दिए थे !
मोहोब्बत की वसीहत बनाई थी दिल मे !
और होशो हवास में उसपर "दस्तखत"कर दिए थे !!

Beksi Aur Bebsi

बेकसी और बेबसी का आलम हमसे पूछिये !
ज़रा तन्हाई का आलम हमसे पूछिये !
कितनी दफ़ा कह चुके हैं मोहब्बत है तुमसे !
आँखो से लबों तक की ख़ामोशी का मतलब हमसे पूछिये !!

Sun Kar Sab Chal Dete Hai

सुन के सब चल देते है, मानता कोई नहीं!
टूटे रिश्ते खींच लेते है, बाँधता कोई नहीं!
जद्दोजहद इस दिल की दिल में दफन रहती हैं!
मुझे पहचानते तो सब है, जानता कोई नहीं !!

Agar Girna Tha Es Trah

मेरी ख्वाबिन्दा उम्मीदों को जगाया क्यों था !
दिल जलना था तो फिर तुमने दिल लगाया क्यों था !
अगर गिरना था इस तरह नजरो से हमें !
तो फिर मेरे इस्सक को कलेजे से लगाया क्यों था !!

Kimat Aur Badti Hai

सफर में मुश्किलें आए तो हिम्मत और बढ़ती है !
कोई अगर रास्ता रोके तो जुर्रत और बढ़ती है !
अगर बिकने पे आ जाओ तो घट जाते हैं दाम अक्सर !
ना बिकने का इरादा हो तो कीमत और बढ़ती है !!

Chirag Hoon

रेत की प्यास को बस बदलियां समझती है !
भूख कितनी लगी है, पसलियां समझती है !
चराग हूँ मुझे सूरज की आग क्या जाने !
मेरी ताकत तो सिर्फ आंधियां समझती है !!

Nidahe Apni Pahchan Hai

निगाहें आपकी पहचान है हमारी !
मुस्कुराहट आपकी शान है हमारी !
रखना अपने आपको हिफाजत से !
क्योंकि सांसे आपकी जान है हमारी !!