www.poetrytadka.com

wo lamhe talash karti hoon

दिल में दद॔ के पुरजे तलाश करती हूँ !
तुम्हारे प्यार के टुकड़े तलाश करती हूँ !
तमाम रात पर्दे हटा के,चाँद के साथ !
जो खो गये हैं, वो लम्हे तलाश करती हूँ !!