www.poetrytadka.com

Tune nafrat se jo dekha hai

तूने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया !
कितने रिश्ते तेरी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया हूँ !
कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें अपनाया है !
कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया हूँ !!