www.poetrytadka.com

Kaise hifazat karta

मैं चिरागों की भला कैसे हिफाज़त करता

वक़्त सूरज को भी, हर रोज़ बुझा देता है

kaise hifazat karta