www.poetrytadka.com

Raat gujari

रात गुजारी फिर महकती सुबह आई … दिल धड़का फिर तुम्हारी याद आई.. आँखों ने महसूस किया उस हवा को … जो तुम्हें छु कर हमारे पास आई .. “सुप्रभात “all frined

Raat gujari