www.poetrytadka.com

Man ka koi kona

मन का कोई कोना अन्धेरे में ना रहे

एक चिराग़ भीतर भी जलाओ यारों

Man ka koi kona