Poetry Tadka

Jazbaat Shayari

Welcome to Jazbaat Shayari ! जज्बात शायरी page. Jazbaat Shayari page is one another shayari topic of poetry tadka. Here you can find out latest जज्बात शायरी colection posted by us.

Jazbaat Shayari ! जज्बात शायरी

Jazbaat Quotes In Hindi

जिन्हें बातों की समझ नहीं, 
उन्हें जज़्बातो की समझ क्या होगी...

Jinhen Baton Ki Samajh Nahin, 
Unhen Jazbaato Ki Samajh Kya Hogi.
 

Dil Ke Jazbaat Shayari

ना पूछो उनका हाल जो अपने जज्बात 
दबाये फिरते हैं दिल पल-पल रोता है, 
लेकिन वे मुस्कुराए फिरते हैं.

Na Poochho Unaka Haal Jo Apne Jazbaat  
Dabaaye Phirate Hain Dil Pal-pal Rota Hai, 
Lekin Ve Muskurae Phirate Hain.

Wo Samjhe Ya Na Samjhe Mere Jazbaat Ko

मेरे जज्बात
वो समझें या ना समझें मेरे जज्बात को, 
हमें तो मानना पड़ेगा उनकी हर बात को, 
हम तो चले जायेंगे इस जहाँ से, 
मगर अश्क बहायेंगे वो हर रात को।
Mere Jajbaat
Vo Samajhen Ya Na Samajhen Mere Jajbaat Ko, 
Hamen To Maanana Padega Unakee Har Baat Ko, 
Ham To Chale Jaayenge Is Jahaan Se, 
Magar Ashk Bahaayenge Vo Har Raat Ko.

Juda Hoke Bhi

जुदा हो कर भी जी रहे है दोनों एक बरसो से 

कभी दोनों कहा करते थे ऐसा हो नहीं सकता 

Kuch Baat To Hai

कुछ बात तो है तेरे बातो में जो बात यहा तक आ पहुची

हम दिल से गए दिल हमसे गया ये बात कहा तक जा पहुंची

Hum Mar Jaaege

तुम्हे ही सहना पड़ेगा गम जुदाई का 

मेरा क्या है मै तो मर जाऊँगा 

Wo Kagaz Aaj Bhi

वो कागज आज भी मुझे फूलो की तरह लगता है 

जिसपे तुमने लिखा था मुझे तुमसे मोहब्बत है 

Ksh Tu Dekh Sake

काश तु देख सके मेरी उदासी के वो पल 

कितनी प्यार से तेरी याद मेरी नीद चुरा लेती है

Mujhe Kya Pta

मुझे क्या पता यहा तुम से अच्छा है या नही 

तुमहारे सिवा किसी और को गौर से देखा ही नहीं

Bhut Roka Mgar

बहुत रोका मगर कहा तक रोकता 

मोहब्बत बढती गई तुमहारे नखरो की तरह