www.poetrytadka.com

Mulakat mukammal nahi

मुलाकात मुकम्मल नहीं अहसास है लेकिन 

तुम्हे याद करते है बस इतना याद रखना तुम

mulakat mukammal nahi