www.poetrytadka.com

Main lahar hun

मेरी शायरी को शोक से पढने वालो 

कही मुझे आदत ना बना लेना..

मै वो लहर हूँ जो ठहर 

जाने की ख्वाहिश नहीं रखता