www.poetrytadka.com

Khwahish yahi hai

ख्वाहिश यही है की ,मेरी शायरी तुम समझो

जरुरी नहीं की ,लोग "वाह वाह करें !!