www.poetrytadka.com

Barish Shayari

Welcome to Barish Shayari ! Rain Shayari in Hindi ! बारिश पर शायरी page. Barish Shayari in Hindi, romantic rain Shayari for girlfriend and boyfriend. Rain Shayari for Husband & Wife In Hindi with many more बारिश पर शायरी at your loving website poetry tadka बारिश शायरी collections.

Barish Status in Hindi

Barish Status in Hindi

हम जागते रहे दुनिया सोती रही, 
इक बारिश ही थी, जो मेरे साथ रोती रही.
Ham jagte rahe duniyan soti rahi
ik barish he thi jo mere sath roti rahi.

कुछ तो चाहत होगी इन बूंदो की भी 
वरना कौन छूता है इस जमीन को 
उस आसमाँ से टूट कर
Kuch to chahat hogi in boondon ki bhi
warna kaun chhoota hai is jameen ko 
us aasmaan se toot kar. 

Shayari on Barish in Hindi

Shayari on Barish in Hindi

पहले बारिश होती थी तो याद आते थे, 
अब जब याद आते हो तो बारिश होती है।
Pahle barish hoti thi to yaad aate the
ab jab yaad aate ho to barish hoti hai.

ये बारिश का मौसम और तुम्हारी याद
चलो फिर मिलते हैं एक कप 
चाय के साथ..!!
Ye barish ka mausam aur tumhaari yaad
chalo phir milate hain ek kap 
chaay ke saath..!!
 

Barish Shayari in Hindi

Barish Shayari in Hindi

बारिश तो होती है मगर 
वो बचपन वाली बारिश 
अब लौट कर नहीं आती है।
Barish to hoti hai magar
wo bachpan wali barish 
ab laut kar nahin aati.

ख़ुद को इतना भी न बचाया कर,
बारिशें हुआ करे तो भीग जाया कर
Khud ko itna bhi na bachaya kar
barish hua kare to bheeg jaya kar.

Barish Shayari 2 line

Barish Shayari 2 line

बारिश जब जब हुआ करती है 
तेरे मेरे रिश्ते को और सुहाना कर देती है 
Barish jab jab hua karti hai
tere mere rishte ko aur suhana kar deti hai.

रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे, 
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं ।
Rahne do ki ab tum bhi mujhey padh na sakoge
barsaat me kagaz ki trah bheeg gaya hun main.

Rain shayari in Hindi

Rain shayari in Hindi

बादलों को गुरूर था की वो ऊंचाई पर हैं.
जब बारिश हुई तो, उसे जमीन की मिटटी ही रास आयी 
Badlon ko guroor tha ki wo oonchai par hain
jab barish hui to usey jameen ki mitti ras aai.

कोई रंग नहीं होता बारिश के पानी में, 
फिर भी फ़िजा को रंगीन बना देती है..!!
Koi rang nahin hota barish ke pani me
fir bhi fiza ko rangeen bana deti hai.