www.poetrytadka.com

mohabbat to wo barish hai

मोहब्बत तो वो बारिश है जिससे छूने की चाहत मैं !
हथेलियां तो गीली हो जाती है पर हाथ खाली ही रह जाते है !!