www.poetrytadka.com

Barish Shayari 2 line

बारिश जब जब हुआ करती है 
तेरे मेरे रिश्ते को और सुहाना कर देती है 
Barish jab jab hua karti hai
tere mere rishte ko aur suhana kar deti hai.

रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे, 
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं ।
Rahne do ki ab tum bhi mujhey padh na sakoge
barsaat me kagaz ki trah bheeg gaya hun main.

Barish Shayari 2 line
सबसे बेस्ट शायरी Click Here