www.poetrytadka.com

Shayari by Gulzar

Hi Friends are you looking Gulzar Shayari in Hindi on sad and love or Gulzar Ki Shayari or Shayari by Gulzar, please visit this page

Gulzar Romantic Shayari

जो दूरियों में भी कायम रहा
वो इश्क़ ही कुछ और था
jo dooriyon mein bhee kaayam raha
vo ishq hee kuchh aur tha

एक हे ख्वाब ने साडी रात जगाया है
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की
ek he khvaab ne saadee raat jagaaya hai
mainne har karavat sone kee koshish kee
gulzar-romantic-shayari

Gulzar Sahab Ki Shayari

बैठ जाता हूँ मिटटी पर अक्सर
क्योंकि मुझे अपनी औकात अच्छी लगती है
baith jaata hoon mitatee par aksar
kyonki mujhe apanee aukaat achchhee lagatee hai

तुझे पहचानूंगा कैसे
तुझे देखा ही नहीं
ढूंढ करता हूँ तुझे अपने चेहरे में कहीं
लोग कहते हिन् मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं
tujhe pahachaanoonga kaise
tujhe dekha hee nahin
dhoondh karata hoon tujhe apane chehare mein kaheen
log kahate hin meree aankhen meree maan see hain
gulzar-sahab-ki-shayari

Gulzar Sad Shayari

कहने को तो बहुत कुछ बाकी है
मगर तेरे लिए मेरी खामोशी हे काफी है
kahane ko to bahut kuchh baakee hai
magar tere lie meree khaamoshee he kaaphee hai

यू तो हम अपने आप में गुम थे
सच तो ये है की वहां भी तुम थे
yoo to ham apane aap mein gum the
sach to ye hai kee vahaan bhee tum the
gulzar-sad-shayari

Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines

खुशबू जैसे लोग मिले अफसानों में
एक पुराण खत खोला अनजाने में
khushaboo jaise log mile aphasaanon mein
ek puraan khat khola anajaane mein

बेहिसाब हसरतें न पालिये
जो मिला है उसे सम्भालिये
behisaab hasaraten na paaliye
jo mila hai use sambhaaliye
gulzar-shayari-in-hindi-2-lines

Gulzar Love Shayari

साथ साथ घुमते हैं हम दोनों रात भर
लोग मुझे आवारा और उसे चाँद कहते हैं
saath saath ghumate hain ham donon raat bhar
log mujhe aavaara aur use chaand kahate hain

ये इश्क़ मोहब्बत की रिवायत भी अजीब है
पाया नहीं है जिसको उसे खोना भी नहीं चाहते
ye ishq mohabbat kee rivaayat bhee ajeeb hai
paaya nahin hai jisako use khona bhee nahin chaahate
gulzar-love-shayari