www.poetrytadka.com

Gulzar Shayari

2022-05-17 05:20:49

Hi Friends are you looking Gulzar Shayari in Hindi on sad and love or Gulzar quotes please go below and read latest Shayari by Gulzar.

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं,
हवा चले या न चले दिन पलटते रहते हैं।
Khulee kitaab ke safhe ulatate rahate hain,
hava chale ya na chale din palatate rahate hain.


Gulzar Quotes in Hindi

उड़ते पैरों के तले जब बहती है जमीं
मुड़के हमने कोई मंज़िल देखी तो नही
रात दिन हम राहों पर शामो सहर करते हैं
राह पे रहते हैं यादों पे बसर करते हैं.

तुझे भूल जाने के लिए क्या क्या कर रहा हु मै,
अंशु, ख़ामोशी, उदासी सभी की कीमत अदा कर रहा हु मै !!!

Gulzar Shayari in Hindi

Gulzar Shayari in Hindi 1

वो मोहब्बत भी तुम्हारी थी, 
नफरत भी तुम्हारी थी, 
हम अपनी वफ़ा का इंसाफ किससे माँगते, 
वो शहर भी तुम्हारा था, 
वो अदालत भी तुम्हारी थी।
Wo mohabbat bhi tumhari thi
nafrat bhi tumhari thi.
Ham apni wafa ka insaf kisse mangte
wo shahar bhi tumhara tha
wo adalat bhi tumhari thi.

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते,
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते.
Haath chhooten bhi to rishte nahin chhoda karte,
waqt ki shakh se lamhe nahin toda karte.

दिल अब पहले सा मासूम नहीं रहा,
पत्त्थर तो नहीं बना पर अब मोम भी नही रहा।
Dil ab pahle sa masoom nahin raha,
patthar to nahin bana par ab mom bhi nahin raha.

2 Lines Gulzar Shayari

2 lines gulzar shayari

आइना देख कर तसल्ली हुई,
हम को इस घर में जानता है कोई. 
Aaina dekh kar tasalli hui,
ham ko is ghar mein jaanata hai koi. 

वो चीज जिसे दिल कहते हैं 
हम भूल गए हैं, रख के कहीं
Wo cheez jise dil kahte hain
ham bhool gaye hain rakhkar kahin.

कुछ रिश्ते बहुत सहानी होते हैं
अपनेपन का शोर नहीं मचाया करते.
Kuch rishte bahut roohani hote hain
apnepan ka shor nahin machaya karte.
 

Gulzar Romantic Shayari

gulzar-romantic-shayari
जो दूरियों में भी कायम रहा
वो इश्क़ ही कुछ और था
jo dooriyon mein bhee kaayam raha
vo ishq hee kuchh aur tha

एक हे ख्वाब ने साडी रात जगाया है
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की
ek he khvaab ne saadee raat jagaaya hai
mainne har karavat sone kee koshish kee

Gulzar Sahab Ki Shayari

gulzar-sahab-ki-shayari
बैठ जाता हूँ मिटटी पर अक्सर
क्योंकि मुझे अपनी औकात अच्छी लगती है
baith jaata hoon mitatee par aksar
kyonki mujhe apanee aukaat achchhee lagatee hai

तुझे पहचानूंगा कैसे
तुझे देखा ही नहीं
ढूंढ करता हूँ तुझे अपने चेहरे में कहीं
लोग कहते हिन् मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं
tujhe pahachaanoonga kaise
tujhe dekha hee nahin
dhoondh karata hoon tujhe apane chehare mein kaheen
log kahate hin meree aankhen meree maan see hain

Gulzar Sad Shayari

gulzar-sad-shayari
कहने को तो बहुत कुछ बाकी है
मगर तेरे लिए मेरी खामोशी हे काफी है
kahane ko to bahut kuchh baakee hai
magar tere lie meree khaamoshee he kaaphee hai

यू तो हम अपने आप में गुम थे
सच तो ये है की वहां भी तुम थे
yoo to ham apane aap mein gum the
sach to ye hai kee vahaan bhee tum the