www.poetrytadka.com

आइना देख कर तसल्ली हुई,
हम को इस घर में जानता है कोई. 
Aaina dekh kar tasalli hui,
ham ko is ghar mein jaanata hai koi. 

वो चीज जिसे दिल कहते हैं 
हम भूल गए हैं, रख के कहीं
Wo cheez jise dil kahte hain
ham bhool gaye hain rakhkar kahin.

कुछ रिश्ते बहुत सहानी होते हैं
अपनेपन का शोर नहीं मचाया करते.
Kuch rishte bahut roohani hote hain
apnepan ka shor nahin machaya karte.
 

2 Lines Gulzar Shayari