www.poetrytadka.com

Gulzar Sad Shayari


कहने को तो बहुत कुछ बाकी है
मगर तेरे लिए मेरी खामोशी हे काफी है
kahane ko to bahut kuchh baakee hai
magar tere lie meree khaamoshee he kaaphee hai

यू तो हम अपने आप में गुम थे
सच तो ये है की वहां भी तुम थे
yoo to ham apane aap mein gum the
sach to ye hai kee vahaan bhee tum the

Shayari by Gulzar