www.poetrytadka.com

जो दूरियों में भी कायम रहा
वो इश्क़ ही कुछ और था
jo dooriyon mein bhee kaayam raha
vo ishq hee kuchh aur tha

एक हे ख्वाब ने साडी रात जगाया है
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की
ek he khvaab ne saadee raat jagaaya hai
mainne har karavat sone kee koshish kee
Gulzar Romantic Shayari