www.poetrytadka.com



Tareef Shayari in Hindi

uski tareef hi

uski tareef hi

उसने तारीफ़ ही कुछ इस अंदाज से की मेरी,

अपनी ही तस्वीर को सौ दफ़े देखा मैंने!!

husn ki tareef

husn ki tareef

मुझको मालूम नहीं हुस़्न की तारीफ,

मेरी नज़रों में हसीन ‘वो’ है, जो तुम जैसा हो,

koi bura na kahe

koi bura na kahe

ख्वाहिश ये बेशक नही कि "तारीफ" हर कोई करे

मगर "कोशिश" ये जरूर है कि कोई बुरा ना कहे.

wo kahti hai

wo kahti hai

वो कहती हैँ हम उनकी झूठी तारीफ करते हैँ 

ए खुदा बस एक दिन आईने को जुबान दे दे

tareef ki jaroorat nahi

tareef ki jaroorat nahi

तारीफ़ के मोहताज नही होते हैं सच्चे लोग, ऐ दोस्त

असली फूलो पर कभी इत्र छिड़का नहीं जाता