www.poetrytadka.com

Desh Bhakti Shayari

Welcome to Desh Bhakti Shayari in Hindi ! देश भक्ति शायरी page. नीचे कुछ देश भक्ति की शायरी हमने साझा किया है। उम्मीद करते हैं हमारी देश भक्ति शायरी आपको पसंद आएँगी। Desh Bhakti is the feeling of love towards a country and alliance with other citizens who share the same feeling to create a sense of unity among the people. Below we have shared some Desh Bhakti Shayari in Hindi at poetry tadka. Hope you will like our Desh Bhakti Shayari collection.

Patriotic Shayari in Hindi

Patriotic Shayari in Hindi

यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा, 
ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा।
Yahin rahunga kahin umra bhar na jaounga.
Jammen maa hai isey chhodkar na jaounga.

मोहब्बत तो हर आशिक कर गुज़रता है
पर असली आशिक तो वही है जो 
अपनी मिटटी, अपने तिरंगे पर मरता है.
Mohabbat to har aashik ka gujara hai
par asli aashiq to wahi hai jo
apni mitti apne tirange par marta hai.

Shayari Desh Bhakti

Shayari Desh Bhakti

बस ये बात हवाओं को बताये रखना
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना
लहू देकर जिसकी हिफाज़त की शहीदों ने
उस तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना.
Bas ye baat hawaon ko bataye rakhna
roshni hogi chiragon ko jalaye rakhna
lahoo dekar jiski hifazat ki shaheedon ne
us tirange ko sada dil me basaye rakhna.

तिरंगा है आन मेरी
तिरंगा ही है शान मेरी
तिरंगा रहे सदा ऊँचा हमारा 
तिरंगे से है धरती महान मेरी ।
Tiranga hai aan meri
tiranga he hai shaan meri
tiringa rahe sada oonch hamara
tirange se hai dharti mahan meri.

Shaheed Shayari

Shaheed Shayari

मैं जला हुआ राख नहीं, अमर दीप हूँ 
जो मिट गया वतन पर, मैं वो शहीद हूँ
Main jala hua raakh nahin, amar deep hoon.
Jo mit gaya vatan par, main vo shaheed hoon.

देशभक्तों में कुछ ही खुश नसीब होते हैं, 
वो कभी मरते नही, जो शहीद होते हैं.
Desh bhakton me kuch he khush naseeb hote hain
wo kabhi nahin marte jo shaheed hotre hain.

Desh Bhakti Shayari in Hindi

Desh Bhakti Shayari in Hindi

मैं मर जाऊं तो मेरी एक अलग पहचान लिख देना, 
लहू से मेरी पेशानी पे हिन्दुस्तान लिख देना।
Main mar jaoon to meri ek alag pahchaan likh dena. 
Lahoo se meree peshaanee pe Hindustan likh dena.

काश मेरी जिंदगी मेरे वतन के काम आए 
ना खौफ है मौत का ना आरजू है जन्नत की 
लेकीन जब कभी जिक्र हो शाहीदी का 
काश मेरा भी नाम आए। 
काश मेरा भी नाम आए।
Kash meri zindagi mere watan ke kam aaye
na khauf hai maut ka na aarzoo hai zannat ki
lekin jab kabhi zikra ho shaheedon ka 
kash mera bhi naam aaye....2

Watan Par Shayari

Watan Par Shayari

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
बची हो जो एक बूंद भी लहू की
तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे.

Aajadi ki sham kabhi nahin hone denge
shaheedon ki kurbani badnam nahin hone denge
bachi ho jo aik boond bhi lahoo ki
tabtak bharat mata ka aanchal neelam nahin hone denge.