www.poetrytadka.com

shayari sangrah

Last Updated

pagal pan ya pyar

pagal pan ya pyar

आदत सी लग गयी है तुझे हर वक़्त देखने की 

अब इसे प्यार कहते है या पागलपन ये मुझे पता नहीं

nahi raha jata

nahi raha jata

नहीं रहा जाता है तेरे बिना इसलिए तुझसे बात करते है 

वरना हमे भी कोई शौक नहीं है तुझे सताने का 

shayari sangrah na tum door jana

shayari sangrah na tum door jana

ना तुम दूर जाना ना हम दूर जाएगे 

अपने अपने हिस्से की दोस्ती निभाएंगे 

बहुत अच्छा लगेगा ज़िन्दगी का ये सफर 

आप वहा से याद करना हु यहा से मुश्कुराएंगे 

shayari sangrah gtiya logo ki

shayari sangrah gtiya logo ki

घटिया लोगो की सबसे बड़ी पहचान यह है की उन्हें आप जितनी ज्यादा इज्ज़त दोगे वो आपको उतनी ही ज्यादा तकलीफ देंगे 

shayari sangrah yaad rakkhe

shayari sangrah yaad rakkhe

याद रखे खुशी दुसरो से बढती तो जरूरत है लेकिन दुसरो पर निर्भर नहीं करती