www.poetrytadka.com



मेरी अधूरी मोहब्बत

chahne se pyar nahi milta

chahne se pyar nahi milta

चाहने से प्यार नहीं मिलता 

हवा से फूल नहीं खिलता 

प्यार नाम होया है विश्वास का 

बिना सिश्वास के सच्चा प्यार नहीं मिलता 

 

thokar kha ke na sambhle

thokar kha ke na sambhle

ठोकर खा कर भी अगर ना संभले तो मुसाफिर का नशीब 

वरना रहो के पत्थर तो अपना फर्ज करते ही है 

pane ke liye armaan jaroori hai

pane ke liye armaan jaroori hai

जिंदगी के लिए जान जरूरी है 

पाने के लिए अरमान जरूरी है 

हमारे पास चाहे कितना ही गम पर 

आपके चेहरे पर मुश्कान जरूरी है

khubsurti bhut di khuda ne

khubsurti bhut di khuda ne

खूबसुरती बहुत दी खुदा ने तुम्हे 

मगर हमे तुम्हारी वफा ना मिल स्की 

बहुत आग दी हमने बुझते चिराग को 

मगर मोहब्बत की शमा जल ना सका 

kaise kah doo

kaise kah doo

रात गम सुम है मगर खामूश नहीं 

कैसे कह दू आज फिर होश नहीं 

ऐसे डूबा तेरी आँखों की गहराई में 

हाथ में जाम है मगर पिने का होश नहीं