www.poetrytadka.com

Life Shayari

Shero shayari On Life

Shero shayari On Life

उड़ा भी दो सारी रंजिशें इन हवाओं में यारों।
छोटी सी जिंदगी है नफरत कबतक करोगे। 
घमंड न करना जिंदगी में तक़दीर बदलती रहती है। 
शीशा वही रहता है बस तस्वीर बदलती रहती है। 

Blow away all the enmity in these winds, friends.
Life is short, how long will you hate?
Do not be proud, the fate in life keeps changing.
The mirror remains the same only the picture keeps changing.

Inspirational shayari on life

Inspirational shayari on life
आराम से जिंदगी जीना चाहते हो तो
अपने दिल से लालच निकल दो.

aaraam se jindagi jeena chaahate ho to
apane dil se laalach nikal do.

Inspirational shayari on life
shero shayari koi khel nahi janab
jal jaati hai jawaniyan lafzo ki aag main
शेरो शायरी कोई खेल नहीं जनाब
जल जाती है जवनियाँ लफ्जो की आग में

hijr ki pahli fajar ka haal mat puchiye saheb
main khuda ke samne aur dil mere samne rota hai
हिज्र की पहली फजर का हाल मत पूछिए साहब
मैं खुदा के सामने और दिल मेरे सामने रोता है

choda kar haath narmi ye kehti hai sab ke samne
abhik tak gair marhoom tumhari kuch nahi lagti
छोड़ कर हाथ नरमी ये कहती है सब के सामने
अभिक तक गैर मरहूम तुम्हारी कुछ नहीं लगती

2 line life shayari in Hindi

2 line life shayari in Hindi

जी रहे हैं लोग जिन्दगी लेकिन
कोई जिंदा नजर नहीं आता

katham karo mayushi aur sab nafraten
dil rab ka ghar koi astaan ya koi iblees nahi
ख़त्म करो मायुशि और सब नफरतें
दिल रब का घर कोई असतं या कोई इब्लीस नहीं

wo kehti hai karo wada meri aankho main rehna ka
main kehta hoon mujhe samundar se yun hi muhabbat hai
वो कहती है करो वडा मेरी आँखों में रेहना का
मैं कहता हूँ मुझे समुन्दर से यूँ ही मुहब्बत है
 

To kitni bhi khoobsoorat

To kitni bhi khoobsoorat
तु कितनी भी खुबसुरत क्यूँ ना हो ऐ जिंदगी
खुशमिजाज दोस्तों के बगैर अच्छी नहीं लगती.

udaas mat raha karo humse bardasth nahi hota
hum apne gum bhul jate hai tuhe khush dekh kar
उदास मत रहा करो हमसे बर्दास्त नहीं होता
हम अपने गम भूल जाते है तुहे खुश देख कर

jan roh main utar jata hai be-panah ishq
log jinda to rehte hai par kisi aur ke nadar
जान रोह में उतर जाता है बे-पनाह इइश्क
लोग जिन्दा तो रहते है पर किसी और के नदर

Kaise kah doo mai

kaise kah doo mai
कैसे कह दूँ कि अब थक गया हूँ मैं 
न जाने घर में कितनों का हौसला हूँ मैं

behtar yahi tha ke mar jate ya maar dete
tum ne bichad kar kis inayat main daal diya hai mujhe
बेहतर यही था के मर जाते या मार देते
तुम ने बिछड कर किस इनायात में डाल दिया है मुझे

sirf waqt gujarna ho tu kisi aur ko apnana
hum pyar aur dosti ibadat ki tarah karte hai
सिर्फ वक़्त गुजरना हो तू किसी और को अपनाना
हम प्यार और दोस्ती इबादत की तरह करते है