www.poetrytadka.com

Khwahish shayari

Last Updated

Khwahish yahi hai

ख्वाहिश यही है की ,मेरी शायरी तुम समझो

जरुरी नहीं की ,लोग "वाह वाह करें !!

Zeyada khwahish nahin

ज्यादा ख्वाहिशें नही

जिंदगी का हर लम्हा तेरे साथ हो !!

Adhoori khwahish

मुझे मालूम है कि ये ख्वाब झूठे हैं और ख्वाहिशें अधूरी हैं,

मगर जिंदा रहने के लिए कुछ गलतफहमियां जरूरी हैं

Main lahar hun

मेरी शायरी को शोक से पढने वालो 

कही मुझे आदत ना बना लेना..

मै वो लहर हूँ जो ठहर 

जाने की ख्वाहिश नहीं रखता

Meri shayari ko mera

मेरी शायरी को मेरा इश्क़ ना समझना ये तो मेरे नादान दिल की ख्वाहिशें हैं जो तुम्हें बयाँ करता हूँ।