www.poetrytadka.com

Khwab Shayari

Khwab shayari in hindi

khwab shayari in hindi
मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया
मेरे कमरे में भी एक ताजमहल रखा है

basa kar khud ko meri aankhon main chale ho kahan
ye saher ishq hai yahan hijrat ki izazat nahi
बसा कर खुद को मेरी आँखों में चले हो कहाँ
ये सहेर इश्क है यहाँ हिजरत की इजाजत नहीं

isne toda mera dil isse koi shikayat nahi
ye iski amanat hai ise accha laga to humne chod diya
इसने तोडा मेरा दिल इससे कोई शिकायत नहीं
ये इसकी अमानत है इसे अच्छा लगा तो हमने छोड दिया

2 line khwab shayari

2 line khwab shayari
ख्वाबों में आ कर सताते हो क्यूँ मुझको
खुद सोते हो चैन से और मुझे जगाते हो

main apni wafa ka hisaab jo karne baithu
to tum mere hurf ka bhi hiss lauta na sako ge
मैं अपनी वफा का हिसाब जो करने बैठो
तो तुम मेरे हर्फ का भी हिसस लौटा न सकोगे

mangte hai mujh se log teri mohabbat saboot
meri mahendi ka laal rang teri chahat ki nishani hai
मांगते है मुझ से लोग तेरी मोहब्बत सबूत
मेरी महेंदी का लाल रंग तेरी चाहत की निशानी

Unki na thi khata sab

unki na thi khata sab
unki na thi khata sab glat smajh baite
wo mohabbat se baat karte the ghar wale mohabbat smajh baithe

main chahta hoon tera raabta na ho mujh se
main chahta hoon mere saare dukh dard door ho jaye
मैं चाहता हूँ तेरा राब्ता न हो मुझ से
मैं चाहता हूँ मेरे सारे दुख दर्द दूर हो जाये

My life without you

ज़िन्दगी तेरे बिन क्या से क्या हो गई

teri jagah aaj bhi koi nahi le sakta
pata nahi teri khubi hai ya teri kami
तेरी जगह आज भी कोई नहीं ले सकता
पता नहीं तेरी खूबी है या तेरी कमी

Do not joke with me

Do not joke with me, these days I'm very serious
मेरे साथ मजाक मत करना, इन दिनों मैं बहुत संजीदा हूँ

chad gaya bukhar lag najar zamane ko
kya zarurat thi be naqaab aane ko
चढ गया बुखार लग नजर जमाने को
क्या जरूरत थी बे नकाब आने को