www.poetrytadka.com

Judai Shayari

Last Updated

Anjam e Judai

Anjam e Judai

बेवफा वक़्त था, वो थे या मुक़द्दर मेरा, बात जो भी थी बहरहाल अंजाम जुदाई निकला। 

Judai ka sabab

Judai ka sabab

हो जुदाई का शब़ब कुछ भी..!
उसे हम अपनी "ख़ता" कहते हैं..!!

वो तो ढली है "साहिल" के सांसो मे..!
जाने क्यु लोग उसे मुझसे ज़ुदा कहते हैं..!!