www.poetrytadka.com

Hindi Poetry

Hindi poems on life

hindi poems on life

किस हद तक जाना है ये कौन जानता है,

किस मंजिल जाना है ये कौन जानता है!!

जिंदगी के दो पल है जी भर के जी लो,

किस रोज बिछड़ जाना है ये कौन जानता है!!

Jab tak sans hai

jab tak sans hai

jab tak sans hai takrav milta rhega

jab tak riste hai ghav milta rhega

peeth piche jo bolte hai unhe piche hi rahne do

rasta sahi hai to gairo se bhi lgav milta rhega

Teri wafa wafa jana

तेरी वफ़ा,वफ़ा जाना,
मेरी मोहब्बत कुछ भी नही..!
तेरा दर्द,दर्द ठहरा,
मेरे जख़्म कुछ भी नही..!!
तेरी बाते पत्थर की लकिर,
मेरी इल्तज़ा कुछ भी नही..!
तुझमे आना समुंदर जैसा,
मेरा मन कुछ भी नही..!!
तेरा गम,गम हुआ,
मेरे आंसु कुछ भी नही..!
तेरा वजुद सब कुछ जाना,
मेरी हस्ती कुछ भी नही..!!

Maut se kahde

 

मौत से कह दो के हम से नाराजगी ख़तम कर ले अब'
वो बहुत बदल गए है' जिसके लिए हम जिया करते हैं...!! Hindi Poetry 

 

Meri koi khata to sabit kar

meri koi khata to sabit kar

meri koi khata to sabit kar jo bura hoon to bura sabit kar tumhe chacha hai kitna tu kya jane chal mae bewfa hi sahi too apni wfa sabit kar