www.poetrytadka.com

Dhoka Shayari

Dhokha kahne ki

दिल तो पहली बार ही टूट गया था..

बाद में तो इसने जिद कर ली थी धोखा खाने की.

Kabhi dhoka bhi deti hai

किसी की मजबूरी का मजाक ना बनाओ यारों

ज़िन्दगी कभी मौका देती है तो कभी धोखा भी देती है

Dhokha to har kisi

धोखा तो हर किसी को मिलना चाहिए 

जीवन में एक बार वरना कुछ अधूरा सा लगता है

Thokar lagi us patthar se jise apna samajhte the

thokar lagi us patthar se jise apna samajhte the
kadam yuhi dagmga gaae sabhalna hum bhi jante the
thokar lagi us patthar se jise apna samajhte the