www.poetrytadka.com

Two Line Shayari

Abhi ummid baki hai

अभी उम्मीद बाकी है कि वो बिछडा हुआ साथी !
किसी भी मोड पर मिल कर हैरान कर देंगा !!

Ye tazurba huaa

ये तजुर्बा भी हुआ है, बुझे चिरागो से !
के हर अंधेरा हमे देखना सिखाता है !!

Hairan tum naa hona

हैरान तुम ना होना उस के फैसले पर !
कब उस ने कहा था के धोखा नहीं देंगा !!

Chota sa ek mzar

युं मेरे साथ दफन दिले बेकरार हो !
छोटा सा एक मजार के अंदर मजार हो!!

Fikr bhut karti hai

आज यकीन हो गया 'साहब', हमको उनकी वफाओं का !
वो मुझसे इश्क़ तो नहीं करती , फिक्र बहुत करती है !!