www.poetrytadka.com



is shar me andaz azab hai

इस शहर के अंदाज अजब देखे है यारों !
गुंगो से कहा जाता है, बहरों को पुकारो !!

aaya hi tha abhi

आया ही था अभी मेरे लब पे वफा का नाम !
कुछ दोस्तों ने हाथ मे पत्थर उठा लिये !!

fasle ka ahsas

फासलों का एहसास, तो तब हुआ साहेब !
जब मैंने कहा मैं ठीक हूँ और उसने मान लिया !!

zmanat krate krate

मेरी हसरतों को इतना भी कैद में ना रख ए - जिन्दगी !
ये दिल भी थक चुका है इसकी ज़ामानत कराते कराते !!

duaa de jaaega

कितना नादीम (शर्मींदा) हुआ मै बुरा कह के उसे !
क्या पता था जाते जाते वो दुवा दे जायेंगा !!