www.poetrytadka.com

Rahat Indori Shayari

Last Updated

Rahat Indori ki Shayari and some famous राहत इंदौरी के चुनिंदा शेर in Hindi and english fonts at at Rahat Indori Shayari page. So go below and read latest collection of Rhat indori sahab.

मैं आखिर कौन सा मौसम
तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम को
गुजर जाने की जल्दी थी।
Main aakhir kaun sa mausam
tumhaare naam kar deta,
Yahaan har ek mausam ko
gujar jaane kee jaldee thee.

बुलाती है मगर जाने का नईं राहत इंदौरी

बुलाती है मगर जाने का नईं,
वो दुनिया है उधर जाने का नईं.
bulaatee hai magar jaane ka naeen,
vo duniya hai udhar jaane ka naeen.

ज़मीं रखना पड़े सर पर तो रक्खो,
चलो हो तो ठहर जाने का नईं.
zameen rakhana pade sar par to rakkho,
chalo ho to thahar jaane ka naeen.

है दुनिया छोड़ना मंज़ूर लेकिन,
वतन को छोड़ कर जाने का नईं.
hai duniya chhodana manzoor lekin,
vatan ko chhod kar jaane ka naeen.

जनाज़े ही जनाज़े हैं सड़क पर,
अभी माहौल मर जाने का नईं.
janaaze hee janaaze hain sadak par,
abhee maahaul mar jaane ka naeen.

सितारे नोच कर ले जाऊँगा,
मैं ख़ाली हाथ घर जाने का नईं,
sitaare noch kar le jaoonga,
main khaalee haath ghar jaane ka naeen,

मिरे बेटे किसी से इश्क़ कर,
मगर हद से गुज़र जाने का नईं.
mire bete kisee se ishq kar,
magar had se guzar jaane ka naeen.

वो गर्दन नापता है नाप ले,
मगर ज़ालिम से डर जाने का नईं.
vo gardan naapata hai naap le,
magar zaalim se dar jaane ka naeen.

सड़क पर अर्थियाँ ही अर्थियाँ हैं,
अभी माहौल मर जाने का नईं.
sadak par arthiyaan hee arthiyaan hain,
abhee maahaul mar jaane ka naeen.

वबा फैली हुई है हर तरफ़,
अभी माहौल मर जाने का नईं.
vaba phailee huee hai har taraf,
abhee maahaul mar jaane ka naeen.

rahat indori

Ek Roz Teri Kahq Me Rahat Indori Shayari

ए ज़मीं.
इक रोज़ तेरी ख़ाक में खो जायेंगे.
सो जायेंगे. 
मर के भी, रिश्ता नहीं टूटेगा हिंदुस्तान से.
ईमान से.
E zameen.
ik roz teree khaak mein kho jaayenge...  
so jaayenge. 
mar ke bhee, rishta nahin tootega hindustaan se.... 
eemaan se....
 

Ek Roz Teri Kahq Me Rahat Indori Shayari

Agar khilaaf hai hone do Rahat Indori Shayari

Agar khilaaf hai hone do jaan thodi hai,
Ye sab dhuan hai koi aasmaan thodi hai.
अगर खिलाफ है होने दो जान थोड़ी है,
ये सब धुआ है कोई आसमान थोड़ी है.

Lagegi aag to aayenge ghar kai zad men,
Yaha pe sirf hamara makan thodi hai.
लगेगी आग तो आएगे घर कई ज़द मे
यहा पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है.

Hamare muh se jo nikle wahi sadaqat hai,
Hamare muh men tumhari zuban thodi hai.
हमारे मुँह  से जो निकले वही सदाक़त है
हमारे मुँह  मे तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है.

Mai jaanta hu ke dushman bhi kam nahi lekin,
Hamari tarh hatheli pe jaan thodi hai.
मै  जानता हू के दुश्मन भी कम नही लेकिन,
हमारी तरह हथेली पे जान थोड़ी है..

Jo aaj sahib-e-masnand hai kal nahi hoge,
Kirayedaar hai jati makan thode hai.
जो आज साहिब-ए-मसनंद है कल नही होगे,
किरायेदार है जाती मकान थोड़े है.

Sabhi ka khoon hai shamil yaha ki mitti men,
Kisi ke baap ka hindustaan thodi hai.
सभी का खून है शामिल यहा की मिट्टी मे,
किसी के बाप का हिन्दुस्तान थोड़ी है.

Rahat Indori Shayari

Hum apni jaan ke dushman Ko dr rahat indori shayari

हम अपनी जान के दुश्मन को अपनी जान कहते हैं 
मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिंदुस्तान कहते हैं 

Hum apni jaan ke dushman ko apni jaan kahte hain,
Mohabbat ki isi mitti ko hindustān kahte hain. 

dr rahat indori shayari