www.poetrytadka.com

Shayari by Rahat Indori

Agar khilaaf hai hone do jaan thodi hai,
Ye sab dhuan hai koi aasmaan thodi hai.
अगर खिलाफ है होने दो जान थोड़ी है,
ये सब धुआ है कोई आसमान थोड़ी है.

Lagegi aag to aayenge ghar kai zad men,
Yaha pe sirf hamara makan thodi hai.
लगेगी आग तो आएगे घर कई ज़द मे
यहा पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है.

Hamare muh se jo nikle wahi sadaqat hai,
Hamare muh men tumhari zuban thodi hai.
हमारे मुँह  से जो निकले वही सदाक़त है
हमारे मुँह  मे तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है.

Mai jaanta hu ke dushman bhi kam nahi lekin,
Hamari tarh hatheli pe jaan thodi hai.
मै  जानता हू के दुश्मन भी कम नही लेकिन,
हमारी तरह हथेली पे जान थोड़ी है..

Jo aaj sahib-e-masnand hai kal nahi hoge,
Kirayedaar hai jati makan thode hai.
जो आज साहिब-ए-मसनंद है कल नही होगे,
किरायेदार है जाती मकान थोड़े है.

Sabhi ka khoon hai shamil yaha ki mitti men,
Kisi ke baap ka hindustaan thodi hai.
सभी का खून है शामिल यहा की मिट्टी मे,
किसी के बाप का हिन्दुस्तान थोड़ी है.

Shayari by Rahat Indori