www.poetrytadka.com

Shayari by Gulzar

Gulzar Shayari on Life

बैठे चाय की प्याली लेकर पुराने किस्से गरम करने
चाय ठंडी होती गई और आँखें नाम
baithe chaay kee pyaalee lekar puraane kisse garam karane
chaay thandee hotee gaee aur aankhen naam

हमने अक्सर तुम्हारी राहों में
अक्सर तुम्हारा इंतज़ार किया
hamane aksar tumhaaree raahon mein
aksar tumhaara intazaar kiya
gulzar-shayari-on-life

Gulzar Shayari in Hindi

वक़्त भी हार जाते हैं कई बार जज्बातों से
कितना भी लिखो कुछ न कुछ बाक़ी रह जाता है
vaqt bhee haar jaate hain kaee baar jajbaaton se
kitana bhee likho kuchh na kuchh baaqee rah jaata hai

चाँद होता न आसमाँ पे अगर
हम किसे आप सा हसीं कहते
chaand hota na aasamaan pe agar
ham kise aap sa haseen kahate
gulzar-shayari-in-hindi

Shayari by Gulzar

मैं तो चाहता हूँ
हमेशा मासूम बने रहना
ये जो ज़िन्दगी है
समझदार किये जाती है
main to chaahata hoon
hamesha maasoom bane rahana
ye jo zindagee hai
samajhadaar kiye jaatee hai
shayari-by-gulzar

Best Gulzar shayari in hindi

Kaun Kahta Hai K Hum Jhooth nahin boltey
Tum Ek Baar Khairiyat Poochkar To dekho
कौन कहता है क हम झूठ नहीं बोलते
तुम एक बार ख़ैरियत पुचकार तो देखो

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आपकी कमी सी है
shaam se aankh mein namee see hai
aaj phir aapakee kamee see hai
best-gulzar-shayari-in-hindi

Gulzar ki shayari in hindi

Jhooth Kahun to Lafzon Ka Dam Ghutta hai
Sach Kahun To Log Khafa Ho Jate Hain
झूठ कहूँ तो लफ़्ज़ों का दम घुटता है
सच कहूं तो लोग खफा हो जाते हैं

sahama sahama dara sa rahata hai
jaane kyon jee bhara sa rahata hai
सहमा सहमा डरा सा रहता है
जाने क्यों जी भरा सा रहता है
gulzar-ki-shayari-in-hindi