www.poetrytadka.com

Zulfe bikhar jaae

माथे को चूम लूँ मैं और उनकी जुल्फ़े बिखर जाये !

इन लम्हों के इंतजार में कहीं जिंदगी न गुज़र जाये !!