www.poetrytadka.com

zra si mohabbat

तमाम नींदे गिरवी हैं उसके पास !
ज़रा सी मुहब्बत ली थी जिनसे !!