www.poetrytadka.com

Zmin par hai mgar aasman jaisa hai

एक दोस्त मेरी ज़िदगी में ऐसा है !
महोब्बत की तरह है वफाओं जैसा है !
मेरी तलाश की हद उस पर ख़त्म हो जाये !
ज़मी पर है वो मगर आसमाँ जैसा है !!