www.poetrytadka.com

zindagi jo apni thi

काश यह जालिम जुदाई न होती !
ऐ खुदा तूने यह चीज़ बनायीं न होती !
न हम उनसे मिलते न प्यार होता !
ज़िन्दगी जो अपनी थी वो परायी न होती !!