www.poetrytadka.com

Zindagi hum tere

अपनी मर्ज़ी से दो चार कदम चलने दे !
ज़िन्दगी हम तेरे कहने पे चले हैं बरसों !!