www.poetrytadka.com

zindagi bsar karrha hoon mai

zindagi bsar karrha hoon mai
खामखाह तो नहीं मौत से डर रहा हूँ मैं !
कोई तो है जिसके लिए नहीं मर रहा हूँ मैं !
उसे अपने किये पे शर्मिंदा न होना पड़े !
इसलिए ये जिन्दंगी बसर कर रहा हूँ मैं !!