www.poetrytadka.com

zindagi aznabi si lagti hai

दिन तो जैसे तैसे गुजर जाता है !
रात कि तन्हाई बहुत सताती है !
इतना तो क़रीब रहो दूर ना लगे !
जिंदगी भी अजानबी सी लगती है !!