www.poetrytadka.com

Zikr us parwarish ka

जीक्र उस परीवश का और फिर बयान अपना !
बन गया रकीब आखिर था जो राजदां अपना !!