www.poetrytadka.com

Zi bhar ke so lenge

मुकद्दर में नहीं हैं नींदे तो क्या हुआ !
मौत तो आनी है एक दिन जी भर के सो लेंगें !!